घोषणा-पत्र में राम मंदिर को शामिल करे कांग्रेस तो कर सकते है उस पे विचार – VHP

विश्व हिंदू परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा है कि कांग्रेस अगर राम मंदिर निर्माण को अपने घोषणा-पत्र में शामिल करती है तो वीएचपी उस पर विचार कर सकती है। उन्होंने कहा कि वीएचपी को नहीं लगता है कि बीजेपी मंदिर निर्माण के लिए कानून संसद में लाएगी।

0
20
  • वीएचपी के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा है कि उन्हें नहीं लगता कि बीजेपी राम मंदिर के लिए कानून लाएगी
  • उन्होंने कहा कि कांग्रेस अगर अपने मेनिफेस्टो में राम मंदिर निर्माण को शामिल करे तो उस पर विचार किया जा सकता है
  • उन्होंने यह भी कहा कि उनकी राय में कांग्रेस, एसपी औरबीएसपी बीजेपी से ज्यादामंदिर निर्माण के लिए प्रतिबद्ध नहीं हैं

प्रयागराज: विश्व हिंदू परिषद ने संकेत दिया है कि अगर कांग्रेस राम मंदिर निर्माण में दिलचस्पी दिखाती है तो वीएचपी उसे समर्थन देने के बारे में सोच सकती है। विश्व हिंदू परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने शनिवार को कहा है कि कांग्रेस ने हमारे लिए अपने सारे दरवाजे बंद कर रखे हैं लेकिन अगर वह अपने दरवाजे हमारे लिए खोलती है और राम मंदिर निर्माण को अपने घोषणा-पत्र में शामिल करती है तो उसके बारे में भी सोचा जाएगा। आलोक कुमार ने मंदिर निर्माण के लिए अन्य विकल्पों के बारे में पूछे जाने पर यह बात कही।

मोदी सरकार पर भी साधा निशाना
कुंभ मेला क्षेत्र में पत्रकारों से बात करते हुए आलोक कुमार ने यह भी कहा कि हिंदुत्व और राष्ट्रीयता के लिए उनकी राय में बीजेपी से अधिक प्रतिबद्ध पार्टी कांग्रेस, एसपी और बीएसपी नहीं हैं। वीएचपी के कार्यकारी प्रमुख ने मंदिर निर्माण को लेकर बीजेपी की मोदी सरकार पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा, हमें ऐसा लगता है कि केंद्र सरकार राम मंदिर को लेकर कोई कानून नहीं लाएगी। हम आगामी 31 जनवरी और एक फरवरी को होने जा रही धर्म सभा में साधु-संतों को यह बताएंगे।

  सीएम केजरीवाल को मिली बेटी के अपहरण की धमकी, साइबर सेल ने शुरू की जांच

साधु-संतों के समक्ष अपना पक्ष रखेगी वीएचपी
उन्होंने बताया कि कुंभ मेले में होने वाली धर्मसभा में वीएचपी राम मंदिर को लेकर अपना विश्लेषण साधु-संतों के समक्ष रखेगी। उसके बाद वही तय करेंगे कि राम मंदिर आंदोलन के लिए आगे क्या करना है? आलोक कुमार ने बताया कि इस धर्मसभा में जूना अखाड़े के पीठाधीश्वर स्वामी अवधेशानंद, गोविंद देव गिरि जी समेत सभी शीर्ष संत-महात्मा शामिल होंगे।

2025 तक राम मंदिर बन जाने का दिया भरोसा
राम मंदिर निर्माण को लेकर कांग्रेस के अड़ंगा डालने के आरोपों से जुड़े एक सवाल में उन्होंने इसके कई सबूत पेश किए। उन्होंने कहा कि पहला प्रमाण यही है कि कपिल सिब्बल ने अदालत से सुनवाई आम चुनावों के बाद करने की अपील की थी। वहीं दूसरा प्रमाण (तत्कालीन) मुख्य न्यायाधीश को उनके पद से हटाने की कोशिश है। इसके अलावा वीएचपी ने साल 2025 तक अयोध्या में राम मंदिर बन जाने का भरोसा जताया है। कुमार ने कहा कि अगर इस साल चुनाव के बाद बीजेपी सरकार बनाती है तो हम उससे फिर कानून के लिए अनुरोध करेंगे।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here