आतंकवाद और कट्टरपंथ को रोकने के लिए सोशल मीडिया को नियंत्रित करने की जरूरत – सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत

आतंकवाद को लेकर आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने महत्वपूर्ण बयान दिया है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद युद्ध का एक नया तरीका बन चुका है और कट्टरपंथ को फैलना का जरिया सोशल मीडिया पर बन रहा है।

0
39
  • आतंकवाद, पाकिस्तान और तालिबान पर आर्मी चीफ रावत का बड़ा बयान
  • कहा- आतंकवाद युद्ध का नया तरीका, पाक ने हमेशा तालिबान को दी पनाह
  • ‘सोशल मीडिया कट्टरपंथ को फैलाने और वित्तीय संसाधन पैदा करने का जरिया’
  • बोले, कश्मीर में गलत एवं झूठी जानकारियों के कारण युवाओं में बढ़ी कट्टरता

नई दिल्ली: आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने आतंकवाद को युद्ध का एक नया तरीका करार दिया है। बुधवार को उन्होंने कहा कि यह कई सिर वाले राक्षस की तरह अपने पैर पसार रहा है और यह तब तक मौजूद रहेगा, जब तक कुछ देश अपनी नीति के तौर पर इसका इस्तेमाल करना जारी रखेंगे। ‘रायसीना डायलॉग’ के दौरान एक पैनल चर्चा में रावत ने यह भी कहा कि सोशल मीडिया कट्टरपंथ को फैलाने का जरिया बन रहा है इसलिए इसे नियंत्रित किए जाने की आवश्यकता है।

जनरल रावत ने अफगानिस्तान की शांति प्रक्रिया पर कहा कि तालिबान से बातचीत होनी चाहिए, लेकिन यह बिना किसी शर्त के होनी चाहिए। पाकिस्तान का स्पष्टतौर पर जिक्र करते हुए जनरल रावत ने कहा कि ‘कमजोर देश’ दूसरे देश पर अपनी शर्तें मानने का दबाव बनाने के लिए आतंकवादियों का इस्तेमाल कर रहे हें। उन्होंने ऐसी नीति को बर्दाश्त किए जाने को लेकर आगाह भी किया। सेना प्रमुख ने कहा, ‘अगर यह चलता रहा तो कुछ देश आतंकवादियों का वित्त पोषण करेंगे और उन्हें उस तरीके से अपनी गतिविधियों को अंजाम देने की अनुमति देंगे जिस तरह वे देना चाहते हैं।’ उन्होंने साफ कहा कि पाकिस्तान ने हमेशा तालिबान को पनाह दी।

सोशल मीडिया पर नियंत्रण का वक्त
सेना प्रमुख ने कहा कि सोशल मीडिया कट्टरपंथ को फैलाने और वित्तीय संसाधन पैदा करने का जरिया बन रहा है। उन्होंने कहा कि अब इस पर नियंत्रण लगाने का समय आ गया है। जनरल रावत ने कहा, ‘हमने जम्मू-कश्मीर में अलग तरह का कट्टरपंथ देखा। देश जब तक राष्ट्र की नीति के तौर पर आतंकवाद को बढ़ावा देते रहेंगे तब तक यहां आतंकवाद मौजूद रहेगा। हम जम्मू-कश्मीर में ऐसा होते देख रहे हैं।’

  किसी विवाद में नहीं पड़ना चाहता, चाहता हु खत्म हो विवाद - जस्टिस सीकरी

जम्मू-कश्मीर में कट्टरता की भावना पर भी बोले
उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में बहुत सी गलत एवं झूठी जानकारियों के कारण युवाओं के अंदर कट्टरता की भावना आ रही है और धर्म संबंधी कई झूठी बातें उनके मन-मस्तिष्क में भरी जा रही हैं। जनरल रावत ने कहा, ‘यह कम दृश्यता, ज्यादा लाभ उठाने का विकल्प है। यह अब युद्ध का एक नया तरीका बन रहा है। हमने कुछ वर्षों पहले गुरिल्ला युद्ध के तरीके का जिक्र किया था। अब यह आतंकवाद में बदल गया है।’

‘आतंकवाद कई सिर वाले राक्षस की तरह’
उन्होंने कहा कि आतंकवाद अब युद्ध का नया तरीका बन रहा है। आतंकवाद कई सिर वाले एक राक्षस की तरह अपने पैर पसार रहा है। उन्होंने कहा कि मादक पदार्थ और बंदूकों के बीच निश्चित तौर पर गठजोड़ है और मादक पदार्थ की गतिविधियों पर नियंत्रण लगाए बगैर वित्त पोषण और बंदूकों की गतिविधियों पर लगाम लगाना मुश्किल होगा। सेना प्रमुख ने कहा कि सोशल मीडिया के जरिए कट्टरपंथ फैलाना चिंता का विषय है क्योंकि कई लोग इस प्लैटफॉर्म के जरिए कट्टर बन रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि हमें मीडिया और सोशल मीडिया पर नियंत्रण लगाने के लिए बहुत कुछ करना होगा। इसके लिए अगर किसी एक देश ने भी खास तरह की मीडिया को नियंत्रित करना शुरू कर दिया तो कहा जाएगा कि मीडिया अधिकारों पर लगाम लगाई जा रही है। इसलिए मुझे लगता है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को एक साथ मिलकर यह सुनिश्चित करना चाहिए कि सोशल मीडिया के स्रोत को गलत सूचना फैलाने से रोका जाए क्योंकि ज्यादातर फंड उन लोगों से आ रहा है जो कट्टर बनते जा रहे हैं।’

  जब जनता का हाल जानने गोरखपुर की सड़कों पर उतरे यूपी सीएम योगी

उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया के जरिए कट्टरपंथ आतंकवादी संगठनों द्वारा फंड एकत्रित करने की वजहों में से एक बन रहा है। कट्टर लोग फंड एकत्र करने में आतंकवादी संगठनों की मदद भी कर रहे हैं। सेना प्रमुख ने कहा कि आईएस कुछ अन्य देशों की तरह भारत में अपने पैर नहीं जमा पाया और उन्होंने इसका श्रेय भारत के संपन्न पारिवारिक मूल्यों को दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here