प्रियंका के आने से घबराई है बीजेपी, अखिलेश-मायावती से कोई बैर नहीं – राहुल गांधी

Rahul Gandhi on Priyanka Gandhi प्रियंका गांधी के राजनीति में आने से कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में नया जोश देखने को मिल रहा है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि प्रियंका गांधी के राजनीति में आने से बीजेपी वाले घबराए हुए हैं.

0
39

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रियंका गांधी वाड्रा के पार्टी महासचिव बनाए जाने पर बड़ा बयान दिया है. राहुल गांधी का कहना है कि इस फैसले से भारतीय जनता पार्टी वाले घबराए हुए हैं, मैं बहुत खुश हूं कि प्रियंका अब मेरे साथ काम करेंगी. दूसरी ओर, केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने गांधी परिवार पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस खानदान और पानदान की पार्टी है. कांग्रेस मां-बेटी, दामाद और सास की पार्टी है, यह भाई-बहन की पार्टी है. इसके आगे की पार्टी नहीं है. वहीं जेडीयू प्रवक्ता केसी त्यागी कहना है कि इससे एनडीए पर इसका ज्यादा असर नहीं पड़ेगा, लेकिन समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी के रिश्तों पर बुरा असर जरूर पड़ेगा.

अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी के दौरे पर पहुंचे राहुल गांधी ने कहा कि प्रियंका के उत्तर प्रदेश में आने से यहां की राजनीति में बड़ा बदलाव आएगा. राहुल गांधी ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि प्रियंका और ज्योतिरादित्य सिंधिया को लाकर हम उत्तर प्रदेश की राजनीति को बदलना चाहते हैं. इन दोनों को सिर्फ 2 महीने के लिए ही नहीं उत्तर प्रदेश लाया गया है, बल्कि यहां लंबे समय तक के लिए विचारधारा को आगे बढ़ाने का काम करेंगी. गौरतलब है कि बुधवार को ही प्रियंका गांधी वाड्रा को पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभार दिया गया है.

प्रियंका के चुनाव लड़ने पर राहुल ने कहा कि ये फैसला पूरी तरह से प्रियंका पर ही निर्भर है, लेकिन हम इस चुनाव में बैकफुट पर नहीं फ्रंटफुट पर लड़ेंगे. कांग्रेस पार्टी पूरे दमखम से ये चुनाव लड़ेगी. उन्होंने कहा कि मैं निजी तौर बहुत खुश हूं क्योंकि वह बहुत कर्मठ हैं और अब वह मेरे साथ काम करेंगी.

  कर्नाटक के नाटक का पटाक्षेप: विधायकों से येदियुरप्पा बोले - ऑपरेशन लोटस स्थगित, कुमारस्वामी को राहत

वहीं, मायावती और अखिलेश यादव के गठबंधन के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का गठबंधन करने का फैसला उनका है, हम उन दोनों का बहुत सम्मान करते हैं. उन्होंने कहा कि हमें उनसे कोई दिक्कत नहीं है क्योंकि हम तीनों का लक्ष्य ही भारतीय जनता पार्टी को हराना है, हमारी विचारधारा भी मिलती है. राहुल गांधी बोले कि हम बसपा-सपा से बातचीत करने के लिए अब भी तैयार हैं.

बीजेपी पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि बीजेपी की सरकार ने उत्तर प्रदेश को बर्बाद कर दिया है, हम यूपी वालों से कहना चाहेंगे कि अब हमें मौका दीजिए. आपको बता दें कि प्रियंका गांधी इससे पहले भी अमेठी और रायबरेली का प्रचार करती रही हैं, लेकिन तब तक वह पर्दे के पीछे से ही काम करती रही थीं. अब पहली बार है कि वह आधिकारिक रूप से राजनीति में शामिल हुई हैं.

खानदान के व्यक्ति को मिलेगा सिंहासनः मुख्तार अब्बास नकवी
प्रियंका गांधी के महासचिव बनने पर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने गांधी परिवार पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी खानदान और पानदान की पार्टी है. कांग्रेस मां-बेटी, दामाद और सास की पार्टी है, यह भाई-बहन की पार्टी है. इसके आगे की पार्टी नहीं है. बीजेपी में नेता परिश्रम से पैदा होते हैं. उन्होंने कहा कि जो पार्टी सोनिया गांधी के घर से निकल कर राहुल गांधी के लॉन पर और राहुल गांधी के लॉन से निकल कर प्रियंका गांधी की ड्राइंग रूम पर खत्म हो जाती है, ऐसी पार्टी से और अपेक्षा नहीं है. कांग्रेस किसी कार्यकर्ता को आगे नहीं बढ़ाएगी. खानदान का व्यक्ति ही सिंहासन पर आएगा और कांग्रेसी कार्यकर्ता वह तो सिर्फ पानदान के लिए शीर्षासन ही करता रह जाएगा.

  जस्टिस माहेश्वरी और जस्टिस खन्ना को बनाया गया SC जज, हुआ विरोध

मुख्तार अब्बास नकवी का कहना है कि प्रियंका गांधी पहली बार सक्रिय राजनीति में नहीं आई हैं. वह राजनीति में लगातार सक्रिय रही हैं. उनका पूरा परिवार राजनीति में है. यह सास, बहू, भाई-बहन सीरियल नहीं बल्कि सियासत है. यह सीरियल सियासत चल रहा है. उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है इससे कोई असर नहीं पड़ेगा. देश में जो मुद्दे हैं वह खानदान और पानदान के मुद्दे नहीं है. इस देश में विकास ही असली मुद्दा है. गांव, गरीब, किसानों और नौजवानों के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इन पौने 5 सालों अथक परिश्रम किया है.

राहुल गांधी के बीजेपी को हराने के बयान पर केंद्रीय मंत्री नकवी का कहना है कि प्रियंका गांधी आ गई हैं तो क्या वो बीजेपी को हरा देंगे. खुशफहमी पालने दीजिए अच्छा है. कोई बुराई नहीं है.

प्रियंका की रैली में भीड़ जुटेगी, पर NDA पर असर नहीं पड़ेगाः केसी त्यागी
वहीं, प्रियंका गांधी को कांग्रेस का महासचिव बनाए जाने पर जेडीयू प्रवक्ता ने कहा कि एनडीए पर इसका ज्यादा असर नहीं पड़ेगा, लेकिन समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी के रिश्तों पर बुरा असर जरूर पड़ेगा. कांग्रेस इस समय गांधी नेहरू परिवार की पार्टी है. उनके एक ही सदस्य बचे थे, जिनकी राजनीति में विधिवत एंट्री होनी बाकी थी. उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा ने गठबंधन किया और कांग्रेस पार्टी को बाहर कर दिया है. ऐसे में कांग्रेस पार्टी के पास अंतिम दाव प्रियंका गांधी थीं.

केसी त्यागी का कहना है कि एक तो सपा-बसपा के साथ कांग्रेस के रिश्ते खराब है. इससे और भी खराब हो जाएंगे, क्योंकि अब कांग्रेस 80 सीटों पर लड़कर भविष्य की पार्टी बनना चाहती है. दूसरा बिहार में भी आरजेडी और कांग्रेस अलग-अलग चुनाव लड़ सकते हैं, क्योंकि वहां पर भी लड़ाई जोरों पर है. प्रियंका गांधी जैसे आकर्षक चेहरे को सामने लाकर कांग्रेस भुनाने का भी काम करेगी. कांग्रेस पर दबाव डालने में लगे क्षत्रपों से द्वंद बढ़ेगा. फिर चाहे ममता बनर्जी हों या फिर अखिलेश यादव. हालांकि एनडीए पर इसका बहुत ज्यादा असर नहीं पड़ेगा.

  प्रियंका के राजनीति में आने से जहा कांग्रेस में उत्साह तो वही उन्हें सीएम योगी के लिए चुनौती की तरह देखा जा रहा है

त्यागी ने कहा कि वो गांधी नेहरू परिवार की सबसे आकर्षक व्यक्तित्व वाली महिला हैं. भीड़ उनके कार्यक्रम में पहले भी आती थी. इश्यूज पहले भी नहीं थी उनके पास और अब भी नहीं है. वैचारिक स्तर की जो राजनीति के परोधा हैं, उनको चुनौती देना उनके लिए मुश्किल होगा. भीड़ इकट्ठी करने में वो कामयाब होंगी, पर कोई बड़ी चुनौती एनडीए के लिए नहीं होगी.

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here