ITR फाइलिंग पर कैबिनेट का बड़ा फैसला, एक झटके में हुए 5 बड़े फैसले

आज कैबिनेट की अहम बैठक हुई, जिसमें कई लोगों को खुशखबरी मिली। इस अहम मीटिंग में लोगों को बड़ी सौगात दी गई। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारतीय निर्यात-आयात (EXIM) बैंक में अतिरिक्त पूंजी डालने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दी है।

0
29

नई दिल्ली: आज कैबिनेट की अहम बैठक हुई, जिसमें कई लोगों को खुशखबरी मिली। इस अहम मीटिंग में लोगों को बड़ी सौगात दी गई। भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) की 61 फीसदी हिस्सेदारी वाली कंपनी और एक्सपोर्ट और इम्पोर्ट के लिए बने EXIM बैंक से लेकर इनकम टैक्स ऑनलाइन रिटर्न फाइलिंग से जुड़े अहम फैसले लिए गए।

नुमालीगढ़ रिफाइनरी को लेकर लिया गया अहम फैसला
कैबिनेट मीटिंग में भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) में करीब 61 फीसदी हिस्सेदारी वाली कंपनी नुमालीगढ़ रिफाइनरी को लेकर अहम निर्णय लिया गया। सरकार ने नुमालीगढ़ रिफाइनरी की 22,000 करोड़ रुपए की विस्तार योजना को मंजूरी दे दी है। इससे कंपनी का कारोबार बढ़ेगा और ज्यादा लोगों को रोजगार भी मिलेगा। ये कैबिनेट की अहम बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण निर्णयों में से एक है।

EXIM बैंक को पूंजी डालने के प्रस्ताव को मिली मंजूरी
केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारतीय निर्यात-आयात (EXIM) बैंक में अतिरिक्त पूंजी डालने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दी है। नई पूंजी से बैंक अपने कारोबार का विस्तार कर सकेगा। सरकार ने चालू वित्त वर्ष के बजट में एक्जिम बैंक में 500 करोड़ रुपए के निवेश का प्रावधान किया था। पिछले वित्त वर्ष इस बैंक को सरकार से 500 करोड़ रुपए की पूंजी मिली थी। बता दें इस बैंक की स्थापना भारत सरकार ने भारतीय निर्यात-आयात बैंक अधिनियम 1981 के तहत की थी।

इनकम टैक्स ऑनलाइन रिटर्न फाइलिंग पर लिया फैसला
कैबिनेट मीटिंग में भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड में हिस्सेदारी वाली कंपनी नुमालीगढ़ रिफाइनरी और भारतीय निर्यात-आयात (EXIM) बैंक के अतिरिक्त इनकम टैक्स ऑनलाइन रिटर्न फाइलिंग पर भी अहम फैसला लिया गया। कैबिनेट ने इनकम टैक्स ऑनलाइन रिटर्न फाइलिंग के अगले चरण के प्रोजेक्ट को मंजूरी दे दी है।

  कर्नाटक का नाटक जारी, मल्लिकार्जुन खडगे कल जा सकते हैं बेंगलुरु

बजट से पहले मोदी कैबिनेट की अहम बैठक, एक झटके में 5 बड़े फैसले
1. फरवरी को देश का अंतरिम बजट पेश होने वाला है. बजट से कुछ दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्‍यक्षता में कैबिनेट ने एक ही झटके में 5 बड़े फैसले ले लिए हैं. पहले फैसले के तहत उन लोगों को राहत मिलेगी जो आयकर रिटर्न के लिए महीनों इंतजार करते थे. वहीं दूसरे फैसले का फायदा बिजली उत्पादन क्षेत्र की चार केंद्रीय कंपनियों के अधिकारियों को मिलेगा. ऐसे ही सरकार की ओर से कई और फैसले लिए गए हैं.
2. 1 दिन में मिलेगा रिफंड
अब आने वाले दिनों में आयकर रिटर्न मिलने में ज्‍यादा समय नहीं लगेगा. इसके लिए सरकार ने 4,241.97 करोड़ रुपये की एक परियोजना को मंजूरी दी है. यह परियोजना 18 महीने में पूरी होगी. रेल मंत्री पीयूष गोयल के मुताबिक ऑनलाइन आयकर रिटर्न प्रक्रिया सरल बनाने के उद्देश्य से एकीकृत ई-फाइलिंग एवं केन्द्रीकृत प्रोसेसिंग (सीपीसी) परियोजना 2.0 को मंजूरी दी गई है. इस परियोजना के पूर्ण होने पर आयकर रिटर्न की प्रोसेसिंग एक दिन में हो जाएगी. बता दें कि अभी इसमें 63 दिन लग रहे हैं. इस प्रोसेस के लागू होने के बाद टैक्‍सपेयर को रिफंड मिलने से आसानी होगी, वहीं सरकार को रिफंड में देरी की वजह से लगने वाले ब्याज की बचत होगी.
3. एग्जिम बैंक में निवेश की योजना
पीएम मोदी की कैबिनेट ने भारतीय निर्यात-आयात बैंक (एक्जिम बैंक) की अधिकृत पूंजी को 10 हजार करोड़ रुपये से बढ़ाकर 20 हजार करोड़ रुपये करने की भी मंजूरी दी है. पीयूष गोयल ने बताया कि एक्जिम बैंक में नई पूंजी लगाने के लिए भारत सरकार 6,000 करोड़ रुपये के री-कैपिटलाइजेशन बांड जारी करेगी. उन्‍होंने बताया कि भारत के कपड़ा उद्योग में निर्यात की बहुत बड़ी संभावना है. कैबिनेट की इस मंजूरी की वजह से एक्जिम बैंक को पर्याप्त कर्ज मिलेगा, जिससे वह कपड़ा निर्यातकों को बेहतर मदद करने में सक्षम होगा.
4. असम की रिफानइरी की क्षमता बढ़ेगी
मोदी सरकार ने एक और अहम फैसला लिया है. इसके तहत असम की नुमालीगढ़ रिफानइरी की क्षमता को बढ़ाने का फैसला किया गया है. इसके लिए 22,594 करोड़ रुपये की योजना को मंजूरी दी गई है. बता दें कि अभी इस रिफाइनरी की क्षमता 30 लाख टन सालाना है जो 90 लाख टन सालाना करने की योजना है. इसमें पारादीप से नुमालीगढ़ तक कच्चे तेल की पाइपलाइन बिछाई जाएगी. इसके अलावा नुमालीगढ़ से सिलीगुड़ी तक पेट्रोलियम उत्पाद की पाइपलाइन बिछाने का काम भी किया जाएगा.
5. 13 नये केन्द्रीय विश्वविद्यालयों के लिए फंड को मंजूरी
केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने देश में 13 नये केन्द्रीय विश्वविद्यालय खोले जाने के लिए 8113 करोड़ रुपये के बजट को मंजूरी दी है. बता दें कि पिछली सरकार ने इसका मूल बजट 3000 करोड़ रुपये के करीब बनाया था लेकिन देरी की वजह से बजट बढ़कर 8000 करोड़ रुपये हो गया. जिन राज्‍यों में नये विश्वविद्यालय खुलेंगे उनमें बिहार, झारखंड, हिमाचल प्रदेश, गुजरात, कर्नाटक, केरल, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, तमिलनाडु और जम्मू -कश्मीर शामिल हैं.
6. अधिकारियों को मिलेगा नया वेतन
सरकार ने बिजली उत्पादन क्षेत्र की 4 केंद्रीय कंपनियों के अधिकारियों के नये वेतनमानों को मंजूरी दी है. जिन चार केंद्रीय कंपनियों के अधिकारियों को इसका फायदा मिलेगा वो सरकारी जल विद्युत उत्पादन कंपनी (एनएचपीसी), नॉर्थ ईस्ट इलेक्ट्रिक पावर कॉरपोरेशन (एनईईपीसीओ), टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड (पूर्ववर्ती टिहरी हाइड्रो डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड) और सतलुज जल विद्युत निगम लिमिटेड (एसजेवीएन) हैं. वेतनमानों के नियमन में लगभग 323 करोड़ रुपये खर्च होंगे.

  दिल्ली के शेल्टर होम में बच्चियों के साथ दरिंदगी, सजा के नाम पर प्राइवेट पार्ट्स में डाला जाता था मिर्च पाउडर
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here